Breaking News

तालिबान सरकार ने भुखमरी से निपटने के लिए शुरू किया एक कार्यक्रम, अब काम के बदले पैसा नहीं खाना देगा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narenda Modi) आज देश भर में स्वास्थ्य देखभाल के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए 64,180 करोड़ रुपये की प्रधानमंत्री आत्मानिर्भर स्वस्थ भारत योजना (Pradhan Mantri Atmanirbhar Swasth Bharat Yojana- PMASBY) का शुभारंभ करेंगे. पीएमएएसबीवाई पूरे भारत की स्वास्थ्य देखभाल अवसंरचना को मजबूत करने संबंधी देश की सबसे बड़ी योजनाओं में एक होगी. यह योजना, नेशनल हेल्थ मिशन (National Health Mission) के अतिरिक्त होगी.

इसके अलावा, प्रधानमंत्री लगभग सिद्धार्थनगर में उत्तर प्रदेश के नौ मेडिकल कॉलेजों का उद्घाटन करेंगे. वे वाराणसी के लिए 5200 करोड़ रुपये से अधिक की विभिन्न विकास परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे.

क्या है प्रधानमंत्री आत्मानिर्भर स्वस्थ भारत योजना?

पीएमएएसबीवाई का उद्देश्य शहरी और ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में विशेषकर क्रिटिकल केयर सुविधाओं और प्राथमिक देखभाल संबंधी सार्वजनिक स्वास्थ्य अवसंरचना में मौजूद कमियों को दूर करना है.

देश भर में प्रयोगशालाओं के नेटवर्क के माध्यम से लोगों को सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में डायग्नोस्टिक सेवाओं की एक पूरी रेंज की सुविधा मिलेगी. सभी जिलों में एकीकृत सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशालाएं स्थापित की जाएंगी.

11,024 शहरी स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र किए जाएंगे स्थापित

यह योजना विशेष रूप से चिन्हित 10 राज्यों के 17,788 ग्रामीण स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों को समर्थन प्रदान करेगी. इसके अलावा, सभी राज्यों में 11,024 शहरी स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र स्थापित किए जाएंगे.

5 लाख से अधिक आबादी वाले देश के सभी जिलों में एक्सक्लूसिव क्रिटिकल केयर हॉस्पिटल ब्लॉक के माध्यम से गहन चिकित्सा (क्रिटिकल केयर) सेवाएँ उपलब्ध होंगी, जबकि शेष जिलों को रेफरल सेवाओं के माध्यम से कवर किया जाएगा.

PMASBY के तहत, नेशनल इंस्टिट्यूशन ऑफ वन हेल्थ, 4 नए नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, HWO दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र के लिए एक रिजनल रिसर्च प्लेटफार्म, 9 बायो सेफ्टी स्तर III प्रयोगशालाएं और देश के विभिन्न क्षेत्रों में 5 नए रिजनल नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल केंद्र स्थापित किए जाएंगे.

राष्ट्रीय स्तर पर निगरानी प्रणाली का किया जाएगा निर्माण

पीएमएएसबीवाई का लक्ष्य ब्लॉक, जिला, क्षेत्रीय और मेट्रोपॉलिटन क्षेत्रों में नेशनल लेवल पर निगरानी प्रयोगशालाओं का एक नेटवर्क विकसित करके एक आईटी सक्षम रोग निगरानी प्रणाली का निर्माण करना है. सभी सार्वजनिक स्वास्थ्य प्रयोगशालाओं को जोड़ने के लिए एकीकृत स्वास्थ्य सूचना पोर्टल का विस्तार सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में किया जाएगा.

17 नई पब्लिक हेल्थ यूनिट्स का होगा संचालन

PMASBY का उद्देश्य 17 नई पब्लिक हेल्थ यूनिट्स का संचालन करना और प्रवेश-बिंदुओं पर 33 मौजूदा सार्वजनिक स्वास्थ्य इकाइयों को मजबूत करना है, ताकि सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थितियों तथा रोग के प्रकोपों ​​​​का प्रभावी ढंग से पता लगाया जा सके, जांचव रोकथाम की जा सके और मुकाबला किया जा सके. यह किसी भी सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात स्थिति से निपटने के लिए आवश्यक अग्रिम पंक्ति के प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों को तैयार करने की दिशा में भी कार्य करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *