Breaking News

ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह जीते राज्यसभा चुनाव, राजस्थान में भी भाजपा को मिली एक सीट

राजस्थान में राज्यसभा की तीन सीटों के लिए हुए चुनाव में कांग्रेस के दो और भाजपा का एक उम्मीदवार विजयी हुआ है। आज शाम को मतगणना के बाद घोषित परिणाम के अनुसार कांग्रेस के केसी वेणुगोपाल को 64 और नीरज डांगी को 59 मत मिले। इसी प्रकार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राजेंद्र गहलोत को 54 मत मिले। भाजपा के दूसरे उम्मीदवार ओंकार सिंह लखावत 20 मतों पर ही सिमट गये। भाजपा का एक मत खारिज भी हुआ। मध्य प्रदेश में बीजेपी के दोनों उम्मीदवारों ने चुनाव में जीत हासिल की है। कुल 206 विधायकों ने इस चुनाव में अपने मत का प्रयोग किया है। वहीं, कांग्रेस के सिर्फ एक उम्मीदवार को चुनाव में जीत मिली है। कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए ज्योतिरादित्य सिंधिया पहली बार राज्यसभा जाएंगे। कांग्रेस ने भी राज्यसभा में 2 उम्मीदवार उतारे थे। वरीयता वाली सीट से दिग्विजय सिंह थे और दूसरी सीट पर फूल सिंह बरैया थे। विधायकों की संख्या कम होने की वजह से सिर्फ दिग्विजय सिंह की ही जीत हुई है। दिग्विजय सिंह दूसरी बार राज्य सभा जा रहे हैं। वर्तमान चुनाव के लिए उनकी सीट ही खाली हुई थी। भाजपा की तरफ से राज्यसभा के लिए सुमेर सिंह सोलंकी भी जीत गए हैं।


उल्लेखनीय है कि राज्यसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही राजस्थान में भाजपा ने संख्या बल नहीं हाेते हुए भी अपने दूसरे उम्मीदवार के रूप में ओंकार सिंह लखावत को मैदान में उतार दिया था। इससे कांग्रेस ने बाड़ेबंदी शुरु करके विधायकों को एक होटल में ठहराया दिया था। इनमें कांग्रेस विधायकों के साथ ही निर्दलीय तथा बसपा से कांग्रेस में आये विधायक एवं भाजपा के दो विधायक भी शामिल थे। मतदान में राजस्थान के सामाजिक न्याय मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल बीमार होने के चलते मतदान नहीं कर सके जबकि माकपा के गिरधारी लाल महिया ने मतदान में भाग नहीं लिया।

इस चुनाव में विधायकों की खरीद फरोख्त के आराेप लगे तथा सरकारी मुख्य सचेतक महेश जोशी ने पुलिस में मामला दर्ज कराया गया था। राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने भी कांग्रेस पर विधायकों को ललचाने का आरोप लगाया था, लेकिन पुलिस में शिकायत नहीं की गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *