Breaking News

जवाहर बाग कांड की 5वीं बरसी : शहीद मुकुल द्विवेदी की पत्नी अर्चना द्विवेदी ने जवाहर बाग पहुँच शहीदों को दी श्रद्धांजलि

जवाहर बाग कांड में शहीद हुए शहीद मुकुल द्विवेदी की पत्नी अर्चना द्विवेदी पहुंची जवाहर बाग शहीदों को दी श्रद्धांजलि, रामवृक्ष यादव ने सैकड़ों समर्थकों के साथ किया था उद्यान विभाग की 270 एकड़ भूमि पर अवैध कब्जा।

5 साल पूर्व 2 जून 2016 को मथुरा में चर्चित जवाहर बाग कांड हुआ था ,आपको बता दें 2014 से लेकर जून 2016 तक जवाहर बाग में कब्जा जमाए ”स्वाधीन भारत विधिक सत्याग्रह” नामक संगठन के मुखिया गाजीपुर निवासी रामवृक्ष यादव और उसके ढाई-तीन हजार साथियों को बाग से निकालने की इस घटना में दो पुलिस अधिकारियों की मौत हो गई थी. जबकि 27 अन्य मारे गए थे. घंटों तक चली इस मुठभेड़ में तत्कालीन एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी और फरह थाना प्रभारी संतोष यादव शहीद हुए थे.

2 जून की उस काली तारीख सुनकर आज भी मथुरा के लोग सिहर उठते हैं जिसमें दो जाबांज अफसरों समेत 29 लोगों की मौत हुई थी

आज के दिन पांच साल पहले दो जून को मथुरा के जवाहर बाग कांड की घटना हुई थी. ये दिन इतिहास के काले पन्नों में दर्ज है. इस जवाहर बाग कांड में 29 लोगों की मौत हुई थी. पांच साल के बाद भी इस कांड के घाव हरे हैं.

जवाहर बाग कांड का मुख्य आरोपी था रामवृक्ष यादव:-

इस कांड का मुख्य आरोपित गाजीपुर के गांव बाघपुर का रहने वाला रामवृक्ष यादव था. उसके नेतृत्व में 2013 में स्वाधीन भारत विधिक सत्याग्रह का संगठन बनाया गया था. कथित सत्याग्रह के नाम पर जवाहर बाग में अवैध रूप से सैकड़ों लोगों के साथ कब्जा किया था. 2 जून 2016 को चर्चित जवाहरबाग कांड हुआ था.

अवैध कब्जा धारियों ने पुलिस और प्रशासन पर हमला किया:-

दो जून 2016 को जवाहर बाग पर अवैध कब्जा धारियों ने पुलिस और प्रशासन पर हमला किया और पूरे जवाहर बाग को अग्निकांड में बदल दिया था. खाली कराने गई पुलिस टीम पर हथियारों से हमला किया गया था. इस हमले में एसपी सिटी मुकुल द्विवेदी और एसआई संतोष यादव शहीद हुए थे और कई पुलिसकर्मी हमले में घायल हो गए थे. जवाहर बाग में आगजनी और हिंसक घटना ने तत्कालीन सपा सरकार को हिला कर रख दिया था. मामले में कई राजनेताओं पर रामबृक्ष यादव को संरक्षण देने के आरोप लगे थे.

29 लोगों की गई थी जान:-

2 जून की उस काली तारीख सुनकर आज भी मथुरा के लोग सिहर उठते हैं जिसमें दो जाबांज अफसरों समेत 29 लोगों की मौत हुई थी. उस घटना की गवाही आज भी जवाहर बाग में खड़े जले हुए और अधजले पेड़ करते हैं. जवाहर बाग कांड की घटना के बाद सरकार द्वारा दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की गई. रामवृक्ष के सहयोगी चंदनबोस, वीरेश यादव, राकेश गुप्ता के विरूद्ध एनएसए के तहत कानूनी कार्रवाई की गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *