Breaking News

चीन खेल रहा डर्टी गेम, भारतीय सुरक्षा एजेंसिंयां भी तैयार, देश में हर जगह घूम रहे चीनी जासूस

चीन की नापाक हरकतों और डर्टी गेम को लेकर भारत आशंकित तो हमेशा से ही रहा है, लेकिन अब वह कितना गिर चुका है, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि देश के अलगअलग शहरों में उसके जासूसों के फैले होने की सूचना भारतीय सुरक्षा एजेंसियों को मिल चुकी है। ऐसे में जरूरी यह है कि अपने आसपास के हर व्यक्ति को लेकर हम सभी सतर्क हो जाएं।

हर शहर में फैले हैं चीनी जासूस

हिंदुस्तान की खुफिया एंजेंसियों को इस बात की भनक लगी है कि चीन भारत में अपने जासूसों का एक पूरा नेटवर्क खड़ा करने की कोशिश में है। माना जा रहा है कि इस वक्त हिंदुस्तान के अलग-अलग शहरों में करीब एक हजार चीनी जासूस एक्टिव हैं।

जासूसी नेटवर्क फैलाने को पानी की तरह बहा रहे पैसा

हिंदुस्तान में जासूसी नेटवर्क खड़ा करने के लिए चीन किस कदर पानी की तरह पैसा बहा रहा है, इसका खुलासा चार्ली पेंग अपने बयान में कर चुका है। माना जा रहा है कि चार्ली 1000 करोड़ से ज्यादा के हवाले रैकेट में शामिल रहा था। चार्ली अपने जासूस के जरिए बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा पर भी नजर रख रहा था। इतना ही नहीं चार्ली दिल्ली में बैठकर तिब्बत में अपना जासूसी नेटवर्क तैयार कर रहा था। सूचना देने वालों को चार्ली बाकायदा मोटी पेमेंट करता था।

गुर्गों को तलाशने की हो रही कोशिश

चार्ली के इसी नेटवर्क के आधार पर पुलिस और खुफिया एजेंसियां उसके उन गुर्गों को तलाशने में जुटी हुई है, जिनके बारे में माना जा रहा है कि वो देश में कहीं भी मौजूद हो सकते हैं। आमलोगों को अपने नेटवर्क में शामिल करने के लिए जासूस ब्लैकमेलिंग से लेकर हनी ट्रैप तक, कई हथकंडे अपनाते हैं।

प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति समेत वीवीआईपी की जासूसी

हाल ही में सरकार ने भी माना है कि चीन ने भारत के इम्पोर्टेन्ट इंस्टॉलेशन को हैक करने की कोशिश की थी, यहां तक कि प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति सहित वीवीआईपी लोगों की जासूसी करने की बातें भी सामने आ चुकी हैं। एक अनुमान के मुताबिक, चीन की साइबर आर्मी हिंदुस्तान पर हर रोज करीब 50 हजार से ज्यादा साइबर हमले करती है। हालांकि इनमें से ज्यादातर को नष्ट कर दिया जाता है, फिर भी साइबर सुरक्षा के लिहाज से ये बहुत बड़ा खतरा है।

पाकिस्तान, चीन और नेपाल समेत हर पड़ोसी देश पर नजर

पहले भारतीय एजेंसियां पाकिस्तान के किसी भी कनेक्शन के संपर्क बनाने वालों पर पैनी नजर रखते थे, इस लिस्ट में चीन शामिल हो गया है। अब एजेंसियां चीन ही नहीं नेपाल को लेकर भी सतर्क हो गई हैं। इसके अलावा भारत अपने दूसरे पड़ोसी देशों पर भी नजर रख रहा है।

चीन खेल रहा डर्टी गेम, भारतीय सुरक्षा एजेंसिंयां भी तैयार

भारत के खिलाफ साजिश में चीन ने अपने पड़ोसी देशों को भी शिकार बनाना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान तो पहले से ही चीन की गोद में बैठा हुआ था, अब नेपाल, श्रीलंका, म्यांमार और बांग्लादेश में चीन अपना नेटवर्क फैला रहा है। यही उसके डर्टी गेम का मास्टर प्लान है। चीन के जासूसों का नेटवर्क भले कितना भी बड़ा हो, मगर भारत की सुरक्षा एजेंसियां उनकी कमर तोड़ने में जुट गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *