Wednesday , September 28 2022
Breaking News

घरेलू नौकरानी को प्रताड़ित करने के आरोप में निलंबित भाजपा नेता सीमा पात्रा गिरफ़्तार

झारखंड के रांची में (In Ranchi, Jharkhand) घरेलू नौकरानी (House Maid) को बेरहमी से प्रताड़ित करने के आरोप में (In Charge of Brutally Torturing) निलंबित भाजपा नेता (Suspended BJP Leader) सीमा पात्रा (Seema Patra) को गिरफ्तार किया (Arrested) । निलंबित भाजपा नेता सीमा पात्रा, पूर्व आईएएस अधिकारी महेश्वर पात्रा की पत्नी हैं और भाजपा की महिला विंग की राष्ट्रीय कार्यसमिति की सदस्य थीं।

आदिवासी महिला सुनीता को उसके नियोक्ता द्वारा कथित तौर पर शारीरिक रूप से प्रताड़ित करने के मामले में रांची पुलिस ने सीमा पात्रा के बेटे के दोस्त विवेक की पहल पर 22 अगस्त को सुनीता को भाजपा नेत्री के अशोक नगर स्थित घर से छुड़ाया था। नौकरानी की हालत इतनी बुरी थी कि उसे रिम्स में भर्ती कराया गया है। वह चल-फिर पाने में असमर्थ है। अभी भी उसका इलाज जारी है। झारखंड भाजपा ने 30 अगस्त को सीमा पात्रा पर लगे गंभीर आरोपों के बाद उन्हें निलंबित कर दिया था।

सीमा पात्रा पर आदिवासी महिला को प्रताड़ित करने का मामला अरगोड़ा थाने में दर्ज किया गया था, जो कि उनके घर में नौकरानी के रूप में कार्यरत थी, जिसके बाद उन्हें भाजपा ने पार्टी से सस्पेंड कर दिया था। गुमला जिले की रहने वाली 29 साल की सुनीता ने एक वीडियो में लड़खड़ाती आवाज़ में आपबीती बयां की थी, जिसमें उसने सीमा पात्रा पर गंभीर आरोप लगाए थे। सीमा पर आरोप है कि उन्होंने नौकरानी को कथित तौर पर अपनी जीभ से फर्श और मल-मूत्र साफ करने के लिए मजबूर किया था।

सुनीता को करीब 10 साल पहले सीमा पात्रा की बेटी की मदद के लिए काम पर रखा गया था। फिर बाद के सालों में उस पर ढेर सारे जुल्म ढाए गए। सीमा पात्रा पर आरोप है कि उन्होंने इन सालों में कई बार लाठी-डंडे से मारपीट की। साथ ही ज्यादा गुस्सा होने पर उसे लोहे की करछुल और चिमटे से भी पीटा गया। सुनीता ने बताया कि उसके साथ प्रताड़ना यहीं नहीं रुकी बल्कि उसे गर्म तवे से भी जलाया गया और उसके दांत तोड़ दिए। उसे बिना खाना-पानी के कमरे में बंद रखा गया।

इसके अलावा, राष्ट्रीय महिला आयोग ने सीमा पात्रा द्वारा झारखंड में अपनी नौकरानी को प्रताड़ित करने की खबरों पर संज्ञान लिया है। एनसीडब्ल्यू की चेयरपर्सन रेखा शर्मा के द्वारा एक बयान में कहा गया कि ‘पैनल ने झारखंड के डीजीपी को लिखा था कि आरोप सही पाए जाने पर आरोपियों को गिरफ्तार किया जाए। रेखा शर्मा ने यह भी कहा था, ‘आयोग ने मामले में निष्पक्ष और समयबद्ध जांच के लिए भी लिखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *