Breaking News

कोरोना काल में तीसरा प्रोत्साहन पैकेज लागू करने की तैयारी में मोदी सरकार, फ्री अनाज के साथ मिलेगा कैश!

देशभर में कोरोना वायरस (Corona Virus) का तांडव जारी है. जिसके चलते अर्थव्यवस्था पर कड़ी मार पड़ी है. ऐसे में आर्थिक स्थिति को ठीक करने के लिए मौजूदा सरकार कई बड़े प्रयास कर रही है. इसी बीच खबर आ रही है कि, भारत सरकार प्रोत्साहन पैकेज 3.0 लाने की तैयारी में जुटी है. हाल ही में जारी की रिपोर्ट्स की माने तो, सरकार इस पैकेज के जरिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) के लाभ को आने वाले साल के मार्च महीने तक के लिए बढ़ा सकती है. बताया जा रहा है कि, केंद्र सरकार (central government) सामाजिक सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस योजना की लाभ डेट को और आगे बढ़ाने के बारे में सोच रही है. बता दें कि जून में समाप्त होने वाली इस स्कीम की डेट को सरकार ने नवंबर महीने तक के लिए बढ़ाया था.

मार्च तक बढ़ाई जा सकती है डेट
दरअसल देश में गरीबी से जूझ रही जनता के हालात को ध्यान में रखते हुए कोरोना वायरस की मार से बचाने के लिए सरकार ने PMGKY स्कीम का ऐलान किया था. ये योजना इसी साल मार्च महीने में देशभर में लागू की गई थी. जिसकी समयावधि सिर्फ जून तक के लिए ही थी. लेकिन हालातों के मुताबिक इस डेट को नवंबर 2020 तक के लिए बढ़ा दी गई थी. लेकिन इसी बीच इस योजना से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आ रही है. बताया जा रहा है कि सरकार इस स्कीम का फायदा उठाने का मौका जनता को मार्च महीने तक दे सकती है.

लाइवमिंट के हवाले से मिली जानकारी की माने तो, इस योजना के तहत सरकार कैश देने के साथ अनाज देने के समय को भी बढ़ा सकती है. इस बारे में बात करते हुए एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा है कि, प्रोत्साहन पैकेज 3.0 में मांग बढ़ाने वाले और सामाजिक सुरक्षा देने वाले उपायों पर ध्यान दिया गया है.

जारी की गई रिपोर्ट की माने तो, तीसरे प्रोत्साहन पैकेज में सरकार की ओर से 20 करोड़ जन-धन खातों के साथ ही 3 करोड़ गरीब सीनियर सिटीजन, विधवा और दिव्यांगों के कैश ट्रांसफर योजना को भी इसका हिस्सा बना सकती है. जो PMGKY के लाभ में शामिल होगा. आपको बता दें कि, PMGKY के आधार पर ही सरकार की तरफ से एक नागरिक को महीने में 5 किलो चावल या फिर फ्री में गेहूं दिया जाता है. सरकार की इस योजना का लाभ देश की तकरीबन 81 करोड़ जनता को मिल रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *