Breaking News

उन्नाव केस में नया मोड़…होश में आई तीसरी लड़की, बताई कैसे गई दो लड़कियों की जान

उन्नाव के असोहा थाना क्षेत्र के बबुरहा गांव की तीसरी किशोरी को मंगलवार देर शाम होश आ गया. इसके बाद एग्जीक्यूटिव मजिस्ट्रेट के सामने लड़की ने उस दिन की पूरा कहानी बताई. लड़की ने बताया कि आखिरी कैसे दो लड़कियों की जान गई. लड़की का बयान दर्ज करके पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है. एसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया, ‘लड़की ने अपने बयान में कहा कि विनय और उसका दोस्त घटना के दिन खेत में आए थे. उस समय, वह और दो अन्य लड़कियां मवेशियों के लिए चारा इकट्ठा कर रही थीं, विनय ने कुछ नाश्ते की पेशकश की, जिसे लड़कियों ने अस्वीकार कर दिया, फिर विनय ने उन्हें पानी पिलाया, इसे पीने के बाद वे बेहोश हो गईं.

एसपी आनंद कुलकर्णी ने कहा कि लड़की ने अपने बयान में कहा कि आरोपी ने यौन उत्पीड़न नहीं किया. पुलिस के मुताबिक, आरोपी ने तीन लड़कियों को पानी में कुछ कीटनाशक मिलाकर पिलाया था. लड़की ने ये भी बताया कि पानी पीने के बाद वह बेहोश हो गई थीं, लेकिन उनके साथ किसी भी तरीके की छेड़खानी या सेक्सुअल असॉल्ट की घटना नहीं हुई है. उन्नाव एसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि लड़की द्वारा दिए गए बयान को दर्ज कर लिया गया है, जिसको आगे विवेचना में शामिल कर लिया गया, अब इसी के आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी. आपको बता दें कि पुलिस ने इस मामले में विनय और उसके एक साथ को गिरफ्तार किया है. पुलिस की मानें तो यह मामला एक तरफा प्यार का था.

पुलिस के मुताबिक, विनय एक लड़की से प्रेम करता था, उसने उसके सामने प्रस्ताव भी रखा था, लेकिन उसने ठुकरा दिया. विनय बेहद नाराज था, इसलिए उसने पानी में कीटनाशक मिलाकर लड़की को पिला दिया, हालांकि वो सिर्फ एक ही लड़की को मारना चाहता था, लेकिन पानी तीनों ने पी लिया था, इस वजह से तीनों की हालत बिगड़ गई और दो की मौत हो गई. क्या है पूरा मामला 17 फरवरी को 3 बजे तीनों लड़कियां जानवरों के लिए चारा लेने निकली थीं. 6 बजे तक जब लड़कियां वापस नहीं लौटीं तो परिजन खोजबीन करने निकले. 7 बजे तीनों लड़कियां खेत में बेहोशी की हालत में मिलीं और उनके मुंह से झाग निकल रहा था. 7:30 बजे परिजन तीनों को लेकर असोहा सीएचसी पहुंचे, जिसमें दो लड़कियों को मृत घोषित कर दिया गया. तीसरी लड़की को रात 9:00 बजे जिला अस्पताल पहुंचाया गया. 9:30 बजे लड़की को कानपुर के हैलेट अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया. इसके बाद हैलेट अस्पताल ने भी लड़की को प्राइवेट अस्पताल में रेफर कर दिया. करीब एक हफ्ते तक मौत से जंग लड़ने के बाद तीसरी लड़की को आखिरकार मंगलवार को होश आया और उसने पूरी आपबीती बताई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *