Breaking News

इस दिन करें यह एक आसान उपाय, नौकरी और बिजनेस से संबंधी परेशानियां हो जाएगी छूमंतर

हिंदू धर्म (Hindu Religion) में पूजा-पाठ के लिए पान के पत्तों का विशेष महत्व होता है। अक्सर पूजा पाठ में भगवान को पान के पत्ते अर्पित किए जाते हैं। वहीं ज्योतिष (Astrology) में पान के पत्ते को दैवीय पत्ता के रूप में माना गया है जिसके इस्तेमाल से घर परिवार में सुख शांति (happiness peace) आने के साथ-साथ सौभाग्य में वृद्धि होती है।

ज्योतिष शास्त्र में पान को जिंदगी की आर्थिक और निजी परेशानियों को दूर करने में भी कारगर बताया गया है। अगर आप नौकरी, बिजनेस, आर्थिक समस्या (economic problem) आदि से परेशान हैं तो ऐसे में पान के पत्तों का आसान सा उपाय आपके लिए कारगर साबित हो सकते हैं। आइए जानते हैं पवित्र पान के पत्ते के कुछ आसान से उपाय जिन्हें अपनाकर आप अपने जीवन में चल रही परेशानियों को खुद से दूर रख सकते हैं।

अगर आपके काम बनते-बनते बिगड़ जाते हैं और लाख कोशिशों के बाद भी काम नहीं बन पाता तो ऐसे में हर रविवार को पान का एक पत्ता अपने साथ लेकर घर से बाहर निकलें। मतलब कि जब भी आप घर से बाहर निकले तो पर्स में पान का पत्ता रख लें। ऐसा करने से आपके रुके हुए काम धीरे धीरे बनने लगेंगे।

वैसा काम जिसे आप करना चाहते हैं लेकिन कर नहीं पा रहे हैं तो ऐसे में मंगलवार या शनिवार के दिन हनुमान जी को मीठे पान का बीड़ा चढ़ाएं। इससे आपके काम में सफलता मिलेगी।

यदि आपको बिजनेस से जुड़ी कोई परेशानी है तो ऐसे में शनिवार के दिन 5 पीपल के पत्ते और 8 पान के साबूत डंडीदार पत्ते लेकर उन्हें एक ही धागे में बांध दें उसके बाद अपनी दूकान में पूर्व दिशा की ओर बांध दें। फिर हर शनिवार को पत्ते बदल दें और पुराने पत्तों को किसी नदी में प्रवाहित कर दें। ऐसा करने से बिजनेस की दिक्कतें खत्म होने लगती हैं।

अगर आप नौकरी या फिर आर्थिक समस्या से परेशान हैं तो ऐसे में हर शुक्रवार को पान के पत्ते पर गुलाब की पंखुड़ियां रखकर इसे मां लक्ष्मी को अर्पित करें। ऐसा करने से घर में आर्थिक उन्नति के द्वार खुल जाते हैं साथ ही नौकरी में भी सफलता मिलती है।

यदि आपके घर में हमेशा लड़ाई, झगड़ा और कलह रहता है तो ऐसे में हर शाम पान के पत्ते पर कपूर रखकर जलाएं और फिर पूरे घर में घुमाएं। उसके बाद ईष्ट देव से सुख शांति की कामना करें। ऐसा करने से घर में सुख शांति बनी रहेगी और सकारात्मकता बढ़ेगी।

डिस्क्लेमर – ये आर्टिकल जन सामान्य सूचनाओं और लोकोक्तियों पर आधारित है। हम इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *