Breaking News

इनकी मदद से अर्जुन कपूर ने इकट्ठा किये एक करोड़ रुपये, जरूरतमंदों की ऐसे कर रहे मदद

बॉलीवुड एक्टर अर्जुन कपूर अपनी इस फिल्म ‘सरदार का ग्रांडसन’ के प्रचार को किनारे कर जरूरतमंदों की सहायता करने में बीजी हो गए हैं। तथाकथित अपनी गर्लफ्रेंड मलाइका अरोड़ा के साथ डिजिटल दुनिया में नजर आने वाले अर्जुन कपूर चाहते हैं कि उनके भलाई के इस काम पर भी परदा ही पड़ा रहे। मगर, उनके करीबी के अनुसार अर्जुन कपूर चुपचाप गरीबों की मदद कर रहे हैं। जरूरतमंदों तक खाना पहुंचाने और हाइजीन किट पहुंचाने का अच्छा काम कर रहे हैं।

आपको बता दें अर्जुन कपूर और उनकी बहन अंशुला कपूर का एक ऑनलाइन सेलिब्रिटी फंडरेजिंग प्लेटफॉर्म है। इसी के माध्यम से ये दोनों भारत में लोगों के लिए सहायता जुटाने का ये काम कर रहे है। प्रयास है कि इस संकट के वक्त में अधिक से अधिक लोगों तक सहायता पहुंच सके। मिली जानकारी के अनुसार अर्जुन और अंशुला ने अपने चाहनेवालों की सहायता से एक करोड़ रुपये इस काम के लिए एकत्रित कर लिए हैं और इस रकम से उन्होंने अब तक 30 हजार से भी अधिक जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचाई है।

अर्जुन ने बताया, ‘‘कोरोना महामारी ने हमें दुख के गहरे सागर में धकेल दिया है। इस महामारी ने हम सबको अपने दम पर अपने तरीके से अधिक से अधिक लोगों तक सहायता पहुंचाने के लिए प्रेरित किया है। अंशुला और मैंने अपना योगदान देने का प्रयास कर रहे हैं। इस बात की हमें खुशी है कि हम पूरे देश में जरूरतमंद लोगों को मदद पहुंचा पाए और हमारी ये कोशिश अभी भी जारी है।’’

वहीं फिल्म निर्माता बोनी कपूर और अर्जुन कपूर के पिता को भी अपने बेटे की इस पहल पर गर्व है। अर्जुन के अनुसार महीने के राशन से लेकर ताजा खाना परोसने और प्रवासी मजदूरों को नकद पैसे देने और कोविड-19 से बचाव के लिये हाइजीन किट देने तक उनका इरादा अधिक से अधिक लोगों तक सहायता पहुंचना था। ऐसी उम्मीद है कि इस वायरस से लड़ने और इसके विनाशकारी प्रभाव से बचाने में उनकी थोड़ी तो सहायता हो पाई होगी।’

अर्जुन ने बताया इस मुश्किल की घड़ी में एक दूसरे की सहायता करके ही हम संतोष को फील कर सकते हैं। अर्जुन के अनुसार ‘‘मैंने अपने जीवन की जमा पूंजी इस उद्योग में लगाई है। यह प्लेटफॉर्म बहुत ही जरूरतमंद लोगों की मदद कर पाया और इस कठिन वक्त में उनके काम आ पाया, केवल यही इसका मकसद था।‘’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *