Breaking News

कॉल गर्ल गीता अरोड़ा ऐसे बनी ‘सोनू पंजाबन’, लड़कियों की उम्र और हुस्न से तय करती थी रेट, फिर ढूंढा जाता था ग्राहक

12 साल की बच्ची को किडनैप कर उसे जिस्मफरोशी के धंधे में धकेलने की दोषी सोनू पंजाबन (Sonu Punjaban) को आज दिल्ली की द्वारका कोर्ट ने 24 साल की सजा सुना दी। हर किसी के मन में यही सवाल उठ रहा है कि कोई औरत किसी बच्ची के साथ ऐसा कैसे कर सकती है लेकिन ये कहानी बिल्कुल हकीकत है। सोनू पंजाबन बेहद शातिर अपराधी है। इसका आपराधिक रिकॉर्ड काफी पुराना है लेकिन हर बार ये पुलिस को कोई ना कोई चकमा देकर बच निकलती थी। लेकिन इस बार अदालत ने उसे 24 साल कैद की सजा सुनाई है। 12 साल की मासूम बच्ची को किडनैप कर उसे जिस्मफरोशी के धंधे में धकलने की दोषी सोनू पंजाबन के आरोपी के साथी दोषी संदीप बेदवाल को भी 20 साल की कैद की सजा सुनाई गई है। राजधानी दिल्‍ली के द्वारका कोर्ट ने ह्यूमन ट्रैफिकिंग, किडनैपिंग और रेप केस में सोनू पंजाबन और संदीप बेदवाल को सख्‍त सजा दी है। वहीं इस मामले में दिल्‍ली पुलिस ने कोर्ट से अधिकतम सजा देने की मांग की थी। मामला दिल्ली के हरीश विहार थाने का है। एफआईआर के मुताबिक 11 सितंबर 2009 को पीड़ित लड़की का अपहरण किया गया था। लड़की के पिता की तरफ से द्वारका कोर्ट में पेश बर्थ सर्टिफिकेट के अनुसार पीड़ित की जन्म तिथि 9 नवंबर 1996 में थी यानी घटना के वक्त उसकी उम्र महज 12 साल 10 महीने और 2 दिन थी।

सोनू पंजाबन को कोर्ट ने सुनाई 24 साल ...

रोंगटे खड़े हो जाएंगे
पीड़ित लड़की का बयान सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। पीड़िता ने बताया कि सोनू पंजाबन ने उसे ड्रग्स दिया और देह व्यापार के धंधे में इस्तेमाल किया। सोनू पंजाबन 1500 रुपए में उसका सौदा करती थी और लगातार जगह बदलती रहती थी। कुछ दिनों बाद सोनू पंजाबन ने भी पीड़ित को लाला अंकल नाम के शख्स के हाथों बेच डाला वो भी उससे देह व्यापार करवाता था, लेकिन उसके बाद भी पीड़ित लड़की को बेचने का सिलसिला नहीं रुका और एक-एक करके क‌ई दलालों को बेचा गया। आखिर में लड़की को रमेश मिश्रा नाम के एक दलाल ने दूसरे दलाल सतपाल को बेच दिया वो भी उससे देह व्यापार करवाता था। सतपाल के भाई राजपाल ने अपने गांव में ले जाकर उसके साथ रेप किया। कुछ दिनों बाद सतपाल ने पीड़ित से शादी कर ली जिसके बाद मौका पाकर पीड़ित लड़की 7 फरवरी 2014 को वहां से भाग निकली। 9 म‌ई को नजफगढ़ थाने पहुंचकर पुलिस को अपने साथ हुई घटना को बताया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की।

सोनू पंजाबन: जिससे भी शादी की उसका ...

बेहद शातिर अपराधी है सोनू पंजाबन
ये शायद पहली बार है जब किसी आपराधिक मामले में सोनू पंजाबन दोषी साबित हो पाई है। इससे पहले भी उसके खिलाफ क‌ई मामले दर्ज थे, लेकिन वो हर बार बच निकलती थी। पंजाबन को 2007 में प्रीत विहार पुलिस ने और 2008 में साकेत पुलिस ने गिरफ्तार किया था, लेकिन वह जमानत पर बाहर आ गई। जिसके बाद 2011 में उसे 4 लड़कियों और 4 लड़कों के साथ गिरफ्तार कर लिया गया था। इस बार उस पर मकोका (महाराष्ट्र कंट्रोल ऑफ ऑर्गेनाइज्ड क्राइम एक्ट 1999) लगाया गया था, क्‍योंकि वह पैसे कमाने के लिए संगठित तरीके से सेक्स रैकेट चला रही थी। हालांकि पुलिस कोर्ट में आरोप साबित नहीं कर सकी और वह फिर बरी हो गई। जिसके बाद दिसंबर 2017 में सोनू पंजाबन को एक बार गिरफ्तार किया गया था। इस बार उस पर आरोप था कि उसने एक केंद्रीय मंत्री को ब्लैकमेल करने की कोशिश की और एक लड़की को 20 लाख रुपये में बेचा। 10वीं पास गीता अरोड़ा मूल रूप से हरियाणा के रोहतक की रहने वाली है। गीता के पिता ऑटोरिक्शा चलाते थे। बेहद ही साधारण परिवेश में पली बढ़ी गीता अरोड़ा साल 2003 से ही देह व्यापार से जुड़ी हुई बताई जाती है। सबसे पहले गीता अऱोड़ा का नाम उस वक्त सुर्खियों में आया था जब एक बड़े बिजनेसमैन की लाश उसकी गाड़ी से बरामद हुई थी।

Delhi's 5 most dreaded woman criminals: Running sex racket to ...

हालांकि गीता उस वक्त पुलिस की जांच से बच गई थी। इस हत्याकांड में नाम उछलने के बाद गीता ने रोहतक के ही एक नामी गैंगस्टर विजय सिंह से शादी की। कुख्यात गैंग्स्टर प्राकाश शुक्ला गैंग के सदस्य विजय कुमार को साल 1998 में एसटीएफ की टीम ने मुठभेड़ में मार गिराया था। इस वक्त तक गीता अरोड़ा अपराध की दुनिया में आ चुकी थी। पति की मौत के बाद गीता नजफगढ़ के एक मशहूर वाहन चोर दीपक के संपर्क में आई लेकिन 2003 में असम पुलिस ने दीपक को भी एनकाउंटर में ढेर कर दिया। दीपक की मौत के बाद उसने दीपक के ही भाई हेमंत सोनू से शादी रचा ली। कहा जाता है कि पति के नाम से सोनू निकालकर उसने अपने नाम के आगे लगा लिया और वो बन गई सोनू पंजाबन। साल 2006 में पुलिस ने हेमंत सोनू को भी मौत के घाट उतार दिया।

Sonu Punjaban 'attacked' by armed men near Geeta Colony | City ...

बताया जा रहा है कि हेमंत के एक साथी की मदद से सोनू पंजाबन ने दिल्ली में जिस्मफरोशी के धंधे का बड़ा नेटवर्क बनाया। यह भी कहा जाता है कि एक वक्त सोनू खुद कॉलगर्ल थी। लेकिन वक्त बीतने के साथ-साथ सोनू का साम्राज्य बढ़ता चला गया। दिल्ली के अलावा अन्य राज्यों में भी सोनू का जाल फैला हुआ है। सेक्स रैकट चलानेवाली सोनू पंजाबन के क्लाइंट की लिस्ट में कई बड़े बिजनसमैन शामिल थे। वहीं उसके लिए काम करनेवाली लड़कियों की लिस्ट में कई नई मॉडल्स और ऐक्ट्रेस शामिल थीं। इन्हें कोलकाता, मुंबई, राजस्थान और पंजाब भेजा जाता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *