रात को सोने से पहले इस मंत्र का जरूर करें जाप, हर मनोकामना होगी पूरी

कहते हैं इंसान एक ऐसा प्राणी हैं जिसकी एक दो या चार नहीं बल्कि असीमित इच्छा होती है और अपनी सभी इच्छाओं की पूर्ति के लिए हर इंसान कोई ना कोई प्रयत्न जरूर करता है। कभी कोई सही रास्ता पकड़ता है और देर से ही सही मगर अपनी इच्छा की पूर्ति कर ही लेता है जबकि कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो कुछ और रास्ते पर आ जाते हैं ताकि उनकी इच्छाये जल्दी पूरी हो सके।  हम सभी की यही इच्छा होती है कि हम अपने जीवन में कभी निराश न हो और ना ही कभी असफल हो। इंसान अपनी सारी इच्छाओं को पूरी करने के लिए लगातार कोशिश करता रहता है। हर इंसान की यही इच्छा होती है कि वह जल्द से जल्द अपने सारे सपनो को पूरा कर ले और जीवन में कामयाब हो जाए लेकिन सभी लोग तुरन्त कामयाबी हासिल नही कर पाते है। उन्हें लगातार असफलताएँ मिलती ही रहती है। जिसके चलते उन्हें अपने जीवन में बहुत ज्यादा स्ट्रगल व काफी कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

इसके आलावा कई लोग तो अपनी असफलताओं से परेशान व निराश होकर कई गलत कदम भी उठा लेते है, जो उन्हें नही उठाना चाहिए। तो वहीं कुछ लोग इसके उपाय करने लगते है। लेकिन वो भी कुछ ज्यादा असरदार नही होता। ऐसे में यदि आप इन सब चीजो व उपायों को कर के परेशान हो चुके है व थक हार के निराश हो चुके है। तो आज हम आपके लिए वो उपाय ले कर आये हुए है, जो हमारे धर्म शास्त्रो में लिखा हुआ है व जिस उपाय को आप अपना कर अपने जीवन से असफलता व निराशा को दूर कर सकते है और इसके साथ ही आप अपने जीवन में सफल व अपने सपनो को पूरा कर सकते है।

हमारे हिन्दू धर्म शास्त्रों में ऐसे बहुत से तरीके बताए गए हैं जिसे सभी अपना कर सभी लोग सुख समृद्धि और खुशियां प्राप्त कर सकते हैं। आज हम आपको एक ऐसे मंत्र के बारे में बताएंगे जिसे यदि आप सोने से पहले पढ़ कर सोते हैं, तो यकीनन आपकी सारी समस्याएं दूर हो जाएंगी व आपका जीवन भी बदल जाएगा। तो चलिए बताते है आपको उस मन्त्र के बारे में। जिस मंत्र की हम बात कर रहे हैं वह नीचे दिया गया है। जिसे आपको हर रोज सोने से पहले इसका एक बार जरूर जाप करना है और इस मन्त्र का जाप करने के बाद ही सोएं।

मंत्र :

हनुमानअंजनीसूनुर्वायुपुत्रो महाबल:।

रामेष्ट: फाल्गुनसख: पिंगाक्षोअमितविक्रम:।।

उदधिक्रमणश्चेव सीताशोकविनाशन:।

लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा।।

एवं द्वादश नामानि कपीन्द्रस्य महात्मन:।

स्वापकाले प्रबोधे च यात्राकाले च य: पठेत्।।

तस्य सर्वभयं नास्ति रणे च विजयी भवेत्।

राजद्वारे गह्वरे च भयं नास्ति कदाचन।।।

आपको बता दें की ऐसा माना जाता है कि इस मंत्र का जाप करने से इंसान की हर तरह की सारी परेशानियाँ धीरे धीरे करके कुछ ही दिनों में दूर हो जाती है और फिर उसके बाद उसको अपने जीवन मे वो सभी सफलताएं मिलती है जिसकी हमेशा से वो कमाना करता आया है और सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि उसके जीवन की तमाम निराशाए भी दूर होती है और जीवन में भी खुशियों की बहार दौड़ जाती है।

=>
loading...